blogid : 11833 postid : 68

महिला बॉक्सिंग के लिए आदर्श बनीं मैरीकॉम

Posted On: 10 Aug, 2012 sports mail में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

mary kom with medalदेश के पूर्वोतर राज्य मणिपुर के बारे में माना जाता है कि आजादी के बाद से ही केन्द्र और राज्य सरकारों के लिए वहां कानून और व्यवस्था स्थापित करना एक सबसे बड़ी चुनौती रही है. कभी आतंकवाद तो कभी दो गुटों के बीच हिंसा तो कभी प्राकृतिक आपदा ने मणिपुर के विकास और देश के अन्य हिस्सों से जुड़ाव को अलग कर दिया है. वहां की जब एक महिला विश्व स्तर पर एक ऐसा कारनामा कर जाती है तो पूर्वोतर क्षेत्र के साथ पूरे देश को भारी गर्व होता है.


Read : प्रदर्शन के लिए हैवान बन जाते थे खिलाड़ी


भारत की ओर से स्वर्ण पदक की दावेदार मानी जा रही महिला मुक्केबाज एमसी मैरीकॉम भले ही सेमीफाइनल में ब्रिटेन की निकोला एडम्स से हार गई हों लेकिन हारते हुए भी उन्होंने भारत के लिए एक पदक निश्चित कर दिया जिसकी शायद भारत को उम्मीद नहीं थी. उन्होंने 51 किलोग्राम वर्ग में भारत को कांस्य पदक के रूप में चौथा मेडल दिलाया.


मैग्नीफिशेंट मैरी के नाम से मशहूर मैरीकॉम को पता है कि उम्होंने लंदन ओलंपिक के लिए कैसे क्वालीफाई किया. यह ब्रिटेन की निकोला एडम्स ही थीं जिन्होंने विश्व चैंपियनशिप में रसिया की एलेना सवेलयेवा को हराकर लंदन ओलंपिक के लिए मैरीकॉम का रास्ता साफ किया. जिस खिलाड़ी ने लंदन ओलंपिक के लिए अंतिम क्षणों में क्वालीफाई किया हो वह भारत के लिए पदक लेकर आएगी इसकी संभावना कम ही थी. लंदन में अपने पहले ही मैच से मैरीकॉम ने दिखा दिया था कि उन्होंने जो पहले वादा किया कि यदि बॉक्सिंग को ओलंपिक में शामिल किया जाता है तो वह भारत के लिए एक पदक जरूर पक्का करेंगी. आज भारत के पास चार पदक हैं जिसमें से दो पदक महिलाओं के हैं.


मणिपुर में मार्च 1983 में जन्मी मैरीकॉम की शुरुआती शिक्षा लोकटक क्रिश्चियन मॉडल हाई स्कूल (Loktak Christian Model High School) मोइरांग (Moirang) में हुई. लेकिन स्कूली शिक्षा के मामले में वह कामयाब नहीं रहीं. दसवीं में फेल होने के बाद उन्होंने स्कूल को छोड़ने और डिस्टेंस लर्निंग के जरिए शिक्षा लेने का निर्णय लिया. मैरीकॉम ने अपना स्नातक चुराचांदपुर कॉलेज (Churachandpur College) से किया. मैरीकॉम की शादी ओनलेर कॉम से हुई जिनसे उन्हें जुड़वा बच्चे हुए हैं. मैरीकॉम को बचपन से ही खिलाड़ी बनने का शौक था. उन्होंने कॅरियर के रूप में मुक्केबाजी को अपनाया. मैरीकॉम को मुक्केबाज बनाने में पूर्व मुक्केबाज डिंग्को सिंह (Dingko Singh) का हाथ है.


बॉक्सिंग चैम्पियनशिप में 5 बार गोल्ड मेडल जीत चुकी मैरीकॉम ने साल 2000 में जब पहली बार बॉक्सिंग की दुनिया में कदम रखा तब उन्हें बहुत तरह की कठिनाइयों का सामना करना पड़ा. समाज उन्हें महिला बॉक्सर के रूप में अपनाने पर हिचकिचा रहा था. लेकिन बॉक्सिंग रिंग में कदम रखने के एक साल के अंदर साल 2001 में मैरीकॉम ने सभी को गलत साबित करते हुए वर्ल्ड चैम्पियनशिप में भारत के लिए सिल्वर मेडल जीता. इसके बाद वर्ल्ड चैम्पियनशिप 2002 में 45 किलो ग्राम वर्ग में मैरीकॉम ने पहला गोल्ड जीतकर बॉक्सिंग की दुनिया को अपना दम-खम दिखा दिया. शादी के बाद मैरीकॉम ने साल 2005 और 2006 में हुए वर्ल्ड बॉक्सिंग चैम्पियनशिप में अच्छा प्रदर्शन करके भारत के लिए गोल्ड मेडल जीता. उस समय मैरीकॉम बॉक्सिंग रिंग की बहुत ही बड़ी मुक्केबाज थीं. ऐसा माना जाता था कि यदि उस समय महिला मुक्केबाजी को ओलंपिक में शामिल किया जाता तो एक गोल्ड मेडल पक्का था.


साल 2005 में मैरीकॉम की शादी हो गई और 2006 में मैरीकॉम जुड़वां बेटों की मां बनी जिसके बाद वो करीब दो साल तक रिंग से दूर रहीं. लेकिन उनका प्यार बॉक्सिंग के लिए कम नहीं हुआ. उन्होंने साल 2008 और 2010 में वर्ल्ड बॉक्सिंग चैम्पियनशिप में फिर से गोल्ड मेडल जीतकर बॉक्सिंग के प्रति अपने प्यार को दिखा भी दिया.


ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने के बाद मैरीकॉम देश के लिए एक आदर्श बन चुकी हैं. उनके इस पदक से भारतीय महिला बॉक्सिंग में उम्मीद जगी है. आपको याद होगा कि जब बीजिंग ओलंपिक में विजेन्दर सिंह और सुशील कुमार भारत के लिए पदक लेकर आए उसके बाद भारत को मुक्केबाजी और कुश्ती में कई खिलाड़ी मिले. उसी तरह अब भारत को महिला बॉक्सिंग में एक आदर्श मिल चुका है. अब उससे प्रेरणा लेकर भारत में कई महिला बॉक्सर आने वाले ओलंपिक में दो-दो हाथ करेंगी.


Read : भारत की प्रेरणादायक स्टार खिलाड़ी सायना नेहवाल


Mary kom Olympics, mary kom olympics 2012, mary kom boxing, mary kom boxing academy, mary kom medel, mary kom story. olympics 2012 inin hindi.





Tags:                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran