blogid : 11833 postid : 49

London Olympics 2012 : गगन ने पूरा किया अपना सपना

Posted On: 31 Jul, 2012 sports mail,social issues में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

gagan narangओलंपिक में पदकों के लिए भूखे भारत देश में एक पदक भी कई सालों की यादों में तब्दील हो जाता है. इस एक पदक से ही लोग कई सारे सपने संजोने लगते हैं और उम्मीद करते हैं कि अगली बार कुछ पदकों की संख्या बढ़ेगी. लंदन ओलंपिक 2012 में निशानेबाज गगन नारंग ने भारत को पहला कांस्य पदक दिलाकर इस संख्या की शुरुआत कर दी है. नारंग ने यह पदक 10 मीटर एयर राइफल प्रतियोगिता में जीता.


ओलंपिक में खेल का आयोजन होता है या सेक्स का !!


हजारों भारतीय समर्थकों के बीच गगन नारंग ने अपना बेहतर प्रदर्शन करते हुए यह कांस्य पदक हासिक किया. गगन का स्कोर 701.1 प्वाइंट था जबकि स्पर्धा का गोल्ड मेडल रोमानिया के अलीन जॉर्ज मालदोवियानू के नाम रहा. मालदोवियानू ने फाइनल में 702.1 का स्कोर किया. इस स्पर्धा में इटली के निकालो कैपरियानी को सबसे तगड़ा दावेदार माना जा रहा था लेकिन 701.5 प्वाइंट के साथ उन्हें रजत पदक पर संतोष करना पड़ा. हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा ने निशानेबाज गगन नारंग को लंदन ओलिंपिक खेलों में कांस्य पदक जीतने पर बधाई देते हुए उन्हें एक करोड़ रुपये की इनामी राशि देने की घोषणा की है.


इस पदक को हासिल करने में गगन की कई सालों की मेहनत है. आपको याद होगा 2008 बीजिंग ओलंपिक में भारत की तरफ से पदक की उम्मीदों में अन्य खिलाड़यों के साथ-साथ गगन का भी नाम था. उस समय उम्मीद जताई जा रही थी गगन एक पदक जरूर लेकर आएंगे लेकिन ऐसा नहीं हुआ. बीजिंग ओलंपिक में पदक न जीतने का दर्द पिछले चार सालों से उनके दिल में था जो लंदन ओलंपिक में भारत को कांस्य पदक दिलाकर उन्होंने इस दर्द को दूर किया.


गगन नारंग का जीवन

तमिलनाडु के चेन्नई में मई 1983 में जन्में गगन नारंग का परिवार हरियाणा के पानीपत से है लेकिन बाद में उनका परिवार हैदराबाद शिफ्ट हो गया. उनके पिता का नाम भीमसेन और माता का नाम अमरजीत है. गगन ने 6 साल की उम्र से ही निशानेबाजी के हर पैंतरे को समझना शुरू कर दिया था.


गगन नारंग का कॅरियर

गगन नारंग को निशानेबाजी में पहला पदक वर्ष 2003 में एफ्रो एशियन गेम में मिला. उन्होंने प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक हासिल किया. उन्होंने आस्ट्रेलिया मेलबर्न कॉमनवेल्थ गेम (2006) में 10 मीटर एयर राइफल और 50 मीटर 3 पोजीशन में स्वर्ण पदक हासिल करके भारत के गौरव को बढ़ाया. यही प्रदर्शन उन्होंने दिल्ली कॉमनवेल्थ गेम (2010) में दोहराया और कुल चार स्वर्ण पदक यहां भी हासिल किया. वह तीन बार आईएसएसएफ शूटिंग प्रतियोगिता के विश्व चैम्पियन भी हैं.


राष्ट्रमंडल खेलों में बेहतर प्रदर्शन के लिए 2010 में गगन नारंग को सर्वोच्च खेल सम्मान  राजीव गांधी खेल रत्न और पद्मश्री पुरस्कार से नवाजा गया. 2012 लंदन ओलंपिक के लिए क्वालिफ़ाई करने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी गगन नारंग ओलंपिक के शूटिंग इवेंट में कांस्य पदक हासिल करने वाले तीसरे खिलाड़ी हैं. इससे पहले एथेंस में राज्यवर्धन सिंह राठौर ने रजत और बीजिंग में अभिनव बिंद्रा ने स्वर्ण पदक जीता था.


अगर टॉयलेट जाना है तो लाइन लगाओ


Gagan narang, gagan narang olympics 2012, Gagan Narang Olympics, gagan narang bronze, gagan narang achievements, Olympics 2012 in Hindi, London Olympics 2012 in Hindi.




Tags:                         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran