blogid : 11833 postid : 39

London Olympics 2012 : सावधान ! ओलंपिक में जेबकतरों का खतरा

Posted On: 26 Jul, 2012 sports mail में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

pickpocket gangs in olympicइस बार आप लंदन में आयोजित किए जाने वाले ओलंपिक खेलों के साथ-साथ वहां की खूबसूरती का मजा लेने के लिए भी जाएंगे. आप वहां की ऐतिहासिक जगहों पर जाकर अपने आप को रोमांचित महसूस करेंगे, फन करेंगे, मजे लेंगे लेकिन सावधान हो जाइए क्योंकि आपके पीछे एक ऐसा गिरोह लगेगा जो आपके सारे मजे को खराब कर देगा. खूफिया जानकारी मिली है कि दक्षिण अमरीका और पूर्वी यूरोप के संगठित गिरोह ओलंपिक के दौरान शहर में आपराधिक गतिविधियों को अंजाम देने वाले हैं. इस गिरोह के बारे में पुलिस को तब पता चला जब हाल ही में पुलिस ने पूर्वी लंदन के एक इलाके से रोमानिया और लिथुआनिया के एक संदिग्ध जेबकतरा गिरोह को पकड़ा.


खेल शुरू होने से पहले पुलिस ने अब तक की कार्रवाई में 80 से ज़्यादा संदिग्ध जेबकतरों को पकड़ा है. पुलिस ने अपनी इस कार्रवाई का नाम ऑपरेशन पोडियम रखा है. स्कॉटलैंड यार्ड ने ये टीम ख़ासतौर पर ओलंपिक से जुड़े अपराधों से निपटने के लिए बनाई है. ब्रिटेन के सरकारी आंकड़ों के अनुसार पिछले दो साल में जेब काटने की घटनाओं में 17 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई है.


कुछ ही मिनटों में लंदन को मापने वाले धावक


ओलंपिक एक बहुत बड़ा इवेंट हैं जहां विश्व के कई दिग्गज विभिन्न खेलों में आपस में भिड़ते हैं और अपना जौहर दिखाते हैं. ऐसे खेलों के आयोजन की तैयारी सालभर पहले से होने लगती है जिसे लगातार मीडिया की हाइप भी मिलती है. ऐसे में विभिन्न आपराधिक गिरोह भी इन खेलों की रंगत को खराब करने के लिए जुट जाते हैं. इन गिरोहों को पता होता है कि ओलंपिक में आने वाले सैलानी शहर के हाव-भाव से परिचित नहीं हैं. वह उन गलियों और सड़कों के बारे अंजान हैं जिनके बारे में उन्होंने कभी सुना नहीं ऐसे में यह गिरोह अपने आप को तैयार कर लेता है और मौका मिलते ही अपराध को अंजाम दे देता है.


एक सैलानी होने के नाते आप वह सब जरूरी चीज लेकर जाते हैं जिनकी आवश्यकता विदेशों में समय-समय पर पड़ती हैं जैसे मोबाइल, क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड, कैमरा आदि लेकिन वहां जाने से पहले आपको सावधान हो जाना चाहिए क्योंकि जेबकतरा गिरोह की नजरें आपकी इन्हीं जरूरी चीजों पर रहती हैं. वारदात को अंजाम देने से पहले उनमें एक आपसे पता पूछने के बहाने मिलता है. दूसरा शराब के नशे में झूमने की एक्टिंग करता हुआ आपके शरीर से सट जाता है और यही मौका होता है जब वह आपका पर्स या स्मार्टफोन उड़ा लेता है और अपने तीसरे साथी को सौंप देता है. जब तक आपको एहसास होता है कि आपकी जेब कट गई है, तब तक गिरोह छूमंतर हो जाता है. पर्स और जरूरी चीजें खो जाने के बाद आप अनजान शहर में अपने आप को असहाय और काफी परेशान पाएंगे. इन जेबकतरों की खास बात यह होती है कि इनका पहनावा बिलकुल पर्यटकों की तरह होता है.


London Olympics 2012: ओलंपिक के भारतीय स्टार खिलाड़ी


London Olympics 2012, London Olympics 2012 in Hindi, london Olympics, pickpocket in London Olympics 2012




Tags:           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran