blogid : 11833 postid : 17

London Olympics 2012: पदकों का इतिहास

Posted On: 12 Jul, 2012 sports mail में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

history of olympic medalजमैका जैसे छोटे और कम जनसंख्या वाले देश के बारे में हम सोचते हैं कि कैसे एक यह छोटा सा देश ओलंपिक में मैडलों की लड़ी लगा सकता है? जबकि वहीं भारत जिसकी जनसंख्या और क्षेत्रफल जमैका से कई गुना ज्यादा है यहां एक पदक के लिए लोग तरस जाते हैं. अगर कोई पदक लाने वाला भी है तो हम उस पर निश्चित नहीं होते बल्कि उम्मीद करते हैं कि शायद वह खिलाड़ी इस बार पदक ले आए. अगर ओलंपिक में भारत के इतिहास पर नजर डालें तो कभी भारत की ऐसी स्थिति नहीं थी जैसी आज है. आज खिलाडियों के लिए ओलंपिक में मैडल लाना तो दूर ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करना भी टेढ़ी खीर साबित होता है.


London Olympic 2012 : ओलंपिक का अब तक का इतिहास


ओलंपिक में पदकों की बात करें तो ऐसे कई देश भी हैं जिन्होंने अपने मजबूत खेल प्रदर्शन की बदौलत पदकों की भरमार लगा दी है. भारत जैसे कई ऐसे देश भी हैं जिन्हें ओलंपिक में पदक पाने के लिए संघर्ष करना पड़ता है या फिर जिन्हें आज तक कोई पदक हासिल नहीं हुआ. आइए ओलंपिक में अब तक की पदक तालिका पर नजर डालते हैं:


10 सबसे ज्यादा पदक पाने वाले देश

देश स्वर्ण पदक रजत पदक कांस्य पदक कुल पदक
अमेरिका 930 730 638 2298
ब्रिटेन 207 255 253 715
फ्रांस 191 212 233 636
इटली 190 158 174 522
चीन 163 117 106 386
हंगरी 159 140 159 458
स्वीडन 142 160 173 475
ऑस्ट्रिया 131 137 164 432
जापान 123 112 125 360

नोट: ओलंपिक पदक तालिका में अमरीका का जहां पहला स्थान था वहीं सोवियत संघ का दूसरा. 1988 में विघटन से पहले जहां सोवियत संघ ने ओलंपिक में 395 स्वर्ण, 319 रजत, और 296 कांस्य पदक के साथ कुल 1010 पदक जीते वहीं विघटन के बाद रूस ने 108 स्वर्ण, 97 रजत और 110 कांस्य पदक जीते.


10 ऐसे देश जिनके नाम बड़े लेकिन काम छोटे

देश स्वर्ण पदक रजत पदक कांस्य पदक कुल पदक
भारत 9 4 7 20
आयरलैंड 8 7 8 23
मिस्र 7 7 10 24
इंडोनेशिया 6 9 10 25
पुर्तगाल 4 7 11 22
पाकिस्तान 3 3 4 10
इजराइल 1 1 5 7
मलेशिया 0 2 2 4
सऊदी अरब 0 1 1 2

ओलंपिक के इतिहास में 80 ऐसे देश हैं जिन्होंने ओलंपिक जैसे महाकुंभ में भाग तो लिया है लेकिन पदक के मामले में बिलकुल जीरो साबित हुए. फांस से सटे देश मोनाको ने अब तक 18 बार ओलंपिक में भाग लिया लेकिन अभी तक कांस्य पदक भी हासिल नहीं कर पाया. उसी तरह माल्टा ने 14 और फिजी ने 12 बार ओलंपिक में भाग लिया लेकिन पदक के मामले में उसका कहीं स्थान नहीं है. अगर हम वहीं भारत के पड़ोसी देश नेपाल, भूटान, बंग्लादेश और म्यानमार की बात करें तो उन्होंने क्रमश: 11, 7, 7, और 15 बार ओलंपिक में भाग लिया लेकिन अभी तक एक भी पदक हासिल नहीं कर पाए. उम्मीद है लंदन ओलंपिक 2012 में उन देशों में कुछ देशों की किस्मत चमक जाए जो कई सालों से एक पदक का इंतजार कर रहे हैं.


London Olympics 2012 : क्या सुनहरा दौर था भारतीय हॉकी का


Medals in olympics, History of Olympic Medals, history of olympic medals, medals in olympics 2008, medals in olympic games, medals in olympics 2012.



| NEXT



Tags:                       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 2.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran